Welcome to Biovatica.Com

All About Ayurveda, Ayurveda Herbs and Indian Ayurveda Home Remedies

Welcome to Biovatica.Com

All About Ayurveda, Ayurveda Herbs and Indian Ayurveda Home Remedies

img

Tobacco Addiction

Getting rid of tobacco habit with the help of Ayurveda, yoga and natural Therapy
Tobacco Addiction

For the health safety, Ayurveda has shown only one path walking on which we can save our health and keep our bodies disease-free and strong. This path is to follow appropriate diet-lifestyle and having disciplined thought and behaviour. In today's era, it is seen that in the form of inappropriate diet, use of tobacco and alcohol has increased. This article is all about getting rid of , and quitting the habit of tobacco habit.

In our lives, there are some things, which we are not able to quit. Here we are not discussing the things, which are not worth quitting, but instead discussing the things, which are worth quitting, but we are not able to quit them. This thing is – tobacco habit. There can be two reasons for not quitting this habit. First reason can be that, even that thing is worth quitting, but we do not believe that it is worth quitting, or, we are unaware that this thing is worth quitting. Second reason can be that – and in most cases this second reason is the main cause – that even after knowing and believing that the thing or habit is worth quitting, we are not able to quit it due to our habit or addiction. Some people even think that we will see come what may but this is the time to enjoy the life. One of such things is tobacco about which even after having knowledge that it is harmful, today's youth and younger generation is completely indulged in the habit of chewing raw tobacco (gutka) or cigarette smoking.

In this article, Biovatica.Com is discussing harms and negative health effects of tobacco addiction and the effectiveness of yoga, pranayam, natural therapy and Ayurveda in getting rid of tobacco addiction and quitting the smoking and tobacco habit.

Some people of our own society do the business of addictive substances like alcohol and tobacco, which means they are indirectly supporting these things. While there is other section of society which consider these things harmful and worth quitting not only for the human body but also for the entire social order. Government cannot ignore the income coming from the manufacturers and businesspersons of these harmful and addictive products that is why it “fulfils” its duty by only enacting a law of publishing a statutory warning on these products. Today there is a law of publishing statutory warning along with the images of mouth and lung cancers on tobacco products and packets of cigarettes. This is like saying the thief to continue with the theft and asking people to stay awake all night. Though, due to the hard efforts of anti-tobacco organizations there are now laws to forbid tobacco smoking in public places, workplaces, cinemahalls, buses and trains etc. It has helped a lot because passive smoking is even more harmful to the non-smokers. Well, we will now come back to our topic and will start the discussion with the harms and negative health effects of tobacco.

Harms of tobacco

Tobacco is primarily used in two forms – one is through smoking (smoking bidi, cigarette etc.) and second is chewing tobacco in the form of betel nut, gutkha etc.

Tobacco contains several poisonous elements out of which most poisonous element is “nicotine”. “Nicotine” is named after the scientist ‘Jean Nicot' who first found it. It was earlier named ‘nicotine' or ‘nicotiyana' . With tobacco use, initially neurological system gets excited and it provides the feeling of excitement and agility. This feeling occurs because our body has certain nicotinic receptors. However, later, this same nicotine makes the neurological system dull and loose. Its exciting effect creates movement in intestines due to which initially motion happens quickly but slowly due to the effect of nicotine intestine becomes loose and it creates constipation. This development causes the need of tobacco intake repeatedly. In the form of tobacco gutkha or tobacco pack nicotine goes through sublingual absorption and gets distributed throughout the body by blood. The other tobacco intake method is cigarette smoking in which nicotine reaches the bloodstream through lungs and then distributed throughout the body. Apart from nicotine, tobacco contains several other harmful and poisonous elements that bring negative health effects on body. Besides, due to the burning of paper in cigarette smoking, several other harmful chemicals make it even more poisonous.

Using tobacco filled with these poisons bring long-term negative effects to the body which ultimately cause several diseases. Some of these diseases are mouth cancer, throat cancer, lung cancer , cancer of intestine etc. In India, patients of mouth cancer are found the most because here is a tendancy of chewing tobacco in the form of tobacco gutkha. Now if people have the habit of chewing tobacco and smoking bidi, cigarettes from the age of 12-14 then it is certain that disease like cancer will definitely hit the user. Apart from this, there are several long term health problems which will strike in long term which are weakness in nervous system, reduction in eye sight, erectile dysfunction and reproductive health, high blood pressure, heart disease, trouble breathing, weakness in memory, constipation etc.

Habit of tobacco use normally starts at teenage or new youth age and just like any other addictive substance, addiction of this habit is very strong and it becomes very difficult to quit this habit and due to tobacco addiction, it becomes very difficult to live without it.

Now as far as addiction, means tobacco addiction is concerned, or any addiction for that matter, is very difficult to quit. Any addiction is very very difficult to quit because we ask the same person to quit who is holding the addiction. It's like asking the thief to quit the habit of stealing. Same case is with addiction where the thief is our own psyche. All addictions are the plays of our own psyche. All addictions are the businesses of our own mind, body and psyche.this is the reason why all our efforts to quit in addiction goes in vain unless we have a very strong will power to quit any bad habit or bad addiction.

If body is healthy then there is everything and if body is not healthy then there is nothing, so in whatever form you have the addiction of tobacco like raw tobacco, tobacco gutkha or cigarette smoking, it is better to leave or quit the habit as soon as possible that too with a very strong will power and commitment. If we quit the tobacco addiction then following problems or withdrawal symptoms may trouble you but if we don't let our commitment to break and follow some yoga, pranayam and natural de-addiction treatment, then we can get rid of tobacco addiction within days.

Here are some withdrawal symptoms, which may appear for few days after you quit tobacco use.

1)  Strong urge – when you quit any tobacco product you used to be addicted to, a strong urge or desire to use the product may arise several times a day. This urge eventually subside in few days if you are strongly commited to quit your tobacco addiction.

2)  Mental stress and irritation.

3)  Inability to control thoughts and mental state.

4)  Feeling of loss in self-confidence

5)  Lack of mental ability to focus on work.

6)  Recurring negative thoughts

7)  Difficulty sleeping.

8)  Stomach problems.

With the help of following methods of yoga and natural therapy , and with maintaining a strong will power and commitment to quit tobacco addiction habit , you can be successful in coping with these withdrawal symptoms.

(A)  Bhraman Pranayam – every morning before sunrise, walk naked feet in a neat, clean environment. Take deep breaths with both the nostrils and walk for around 16 feet then slowly release the air through nostrils. Repeat the process for 5-10 times.

This Bhraman Pranayam purifies the blood and provides strength to heart and muscles. It makes the psyche happy, kills negative thoughts and provides will power to stay on the path of your commitment to quit tobacco addiction.

(B)  Nadi Shodhan pranayama (Anulom-vilom pranayam) – in early morning, in a pure atmosphere, sit in “Sukhasan “ and close the right nostril with right thumb and take full breath from left nostril. When breath is filled them close the left nostril with the helf of left hand's middle and ring finger. Now keep the breath inside as per your capacity. Then remove the right thumb and release the breath from right nostril. Then close the right nostril with right thumb and keep the breath out for a while. After this remove the right thumb to take breath from the right nostril and as done earlier, keep it inside as per capacity and do “abhyantar kumbhak”. After this release the breath slowly from the left nostril. This completes one frequency of “Nadi shodhan pranayama”. Repeat the same procedure 5-10 times.

This practice purifies the veins and frees them from the tension caused by tobacco use. It helps in controlling the thoughts and mental state. It increases the self-confidence and provides strength to the brain.

(C)  Kapalbhati - do 50-50 frequencies of kapalbhati 10 times. Regular practice of kapalbhati removes the poisonous substances from the body caused by tobacco use. kapalbhati provides strength to the intestines and cures the problem of constipation as well.

 

(D)  Meditation – meditation helps in fighting the urge of tobacco .

 

(E)  Yoga – the yogasanas which help in quitting the tobacco addiction habit are (1) pawanmuktasan, (2) gavyaatmak pashchimottasan (3) dhanuraasan, (4) prishthbhumi taadasan, (5) shawaasan , (6) surya namaskar.

 

Natural therapy treatments for quitting tobacco addiction habit

Some methods and treatment options in natural therapy are very helpful in quitting the habit of tobacco addiction. Since we have written about these natural therapies of quitting tobacco addiction habit and natural treatment methods of quitting tobacco addiction habit several times earlier in different articles of Biovatica.Com, we are only listing the names of these natural therapies of quitting tobacco addiction habit. Names of these therapies and methods are :- (1) jal neti, (2) kunjal, (3) strip of dust on pedu , (4) hot bath of legs.

Diet and natural food to follow while quitting tobacco addiction habit

After quitting tobacco products (i.e. bidi, cigarette and gutkha etc. ) , for the first three days , take one lemon + two spoonful honey + 1 glass of slightly hot water and after this take raw fruits like carrot, kheera, lauki, spinach, juice of white petha, seasonal fruit or fruit juice, 15-20 kishmish, and 5 manukka as per requirement , with the interval of 2 hours. If you feel increased appetite , eat fresh fruit or fresh fruit juice. Following this in initial three days improves the digestive procedure.

Applying above diet along with pranayam, yoga and natural therapies helps in quitting tobacco addiction habit.

=========

योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा तम्बाकू,तम्बाकू गुटका व् सिगरेट पीने की आदत से छुटकारा

स्वास्थ्य की रक्षा हेतु आयुर्वेद ने एक ही मुख्य राजमार्ग बताया है जिस पर चल कर हम स्वास्थ्य की रक्षा कर सकते हैं और अपने शरीर को निरोग तथा शक्तिशाली बनाये रख सकते हैं. यह राजमार्ग है उचित आहार-विहार एवं आचार-विचार का पालन करना. आज के दौर में अनुचित आहार के रूप में तम्बाकू और शराब का सेवन अत्यधिक बढ़ गया है. यह आर्टिकल तम्बाकू की लत से छुटकारा पाने में योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा की उपयोगिता से सम्बंधित है.
tobacco gutka addiction
हमारे जीवन में कुछ ऐसी चीजें होती हैं जिन्हे हम छोड़ नहीं पाते. यहाँ हम किसी ऐसी चीज की चर्चा नहीं कर रहे जो छोड़ने योग्य न हो बल्कि ऐसी चीज की चर्चा कर रहे हैं जो छोड़ने योग्य तो हैं पर उसे हम छोड़ नहीं पाते. वह चीज है - तम्बाकू की लत या तम्बाकू की आदत. इसे न छोड़ने के पीछे दो कारण हो सकते हैं. पहला कारण तो यह हो सकता है की वह वस्तु भले ही छोड़ने योग्य हो पर हम उसे छोड़ने योग्य न मानते हों या यह न जानते हों की वह वस्तु छोड़ने योग्य है. दूसरा कारण यह हो सकता है और ज्यादातर यही कारण होता है की यह जानते और मानते हुए भी की यह चीज सेवन करने योग्य न होने से छोड़ने योग्य है, अपनी आदत से लाचार होकर न छोड़ पाते हों. कुछ लोगों का विचार ऐसा भी होता है की जो होगा सो देखा जाएगा अभी तो ज़िन्दगी के मजे ले लें. ऐसी ही चीजों में से एक है तम्बाकू जिससे होने वाली भयंकर हानि की जानकारी होने के बावजूद आज की युवा पीढ़ी गुटका व् सिगरेट की पूरी तरह गिरफ्त में है. Biovatica .Com के इस आर्टिकल में हम तम्बाकू के सेवन से होने वाली हानियों एवं इसकी लत से छुटकारा पाने में योग, प्राणायाम तथा प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के उपायों की उपयोगिता पर आपसे चर्चा कर रहे हैं.

हमारे ही समाज के ही कुछ लोग तम्बाकू तथा शराब जैसे मादक द्रव्यों का व्यापार करते हैं यानी परोक्ष रूप से इनके पक्षधर ही हैं. वहीँ दूसरा वर्ग है जो इन दोनों मादक द्रव्यों को मानव शरीर के लिए ही नहीं बल्कि सामाजिक व्यवस्था के लिए भी अत्यंत नुकसानदेह और त्याज्य मानता है. इस मामले में हमारी सरकार तटस्थ बनी हुई है क्यूंकि उसे दोनों पक्षों को खुश रखना होता है. मादक द्रव्यों के निर्माताओं और व्यापारियों से , राजस्व और करों के माध्यम से, जो आय सरकार को होती है उसके लोभ को वह छोड़ नहीं सकती लिहाजा मादक द्रव्यों के उत्पाद पर सिर्फ एक वैधानिक चेतावनी देने का नियम बनाकर अपने कर्तव्य की 'इतिश्री' मान लेती है. आजकल तम्बाकू के उत्पादों व् सिगरेट के पैकेट पर वैधानिक चेतावनी (statutory warning) के साथ साथ मुंह व् फेफड़ों के कैंसर की तस्वीर भी छपने लगी है. इस चेतावनी को छापना क़ानूनी रूप से अनिवार्य करके सरकार ने दोनों पक्षों को खुश करने की कोशिश की है यानी यह तो वही बात हुई की चोर से कहें चोरी कर और साहूकार से कहें की जागते रहना . हालांकि तम्बाकू विरोधी संगठनों और संस्थानों के अथक प्रयासों से इतना तो हुआ है की सार्वजनिक स्थानों , कार्यालयों, सिनेमाघरों, बसों, रेलों आदि ऐसे स्थानों पर धूम्रपान करना कानूनन निषिद्ध कर दिया गया है जहाँ सिगरेट के अगले सिरे से निकलने वाला धुंआ दूसरे लोगों को सिगरेट पीने से ज्यादा नुक्सान पहुंचता है इसे पैसिव स्मोकिंग (passive smoking ) कहते हैं. लेकिन इस कानून पर सख्ती से कार्यवाही नहीं हो रही है हालाँकि इतनी नैतिक जिम्मेदारी खुद धूम्रपान करने वाले को भी उठानी चाहिए की उन स्थानों पर जहाँ नो स्मोकिंग का बोर्ड लगा हो वहां धूम्रपान न करें.खैर हम अपने विषय पर लौटते हुए तम्बाकू से होने वाली हानियों से अपनी बात शुरू करते हैं.
tambaku habit hindi

तम्बाकू से होने वाली हानियाँ

तम्बाकू का सेवन मुख्यतः दो विधियों से किया जाता है - एक तो धूम्रपान करके (बीड़ी, सिगरेट ) और दूसरा पान या गुटके के साथ मुंह में रख कर चबाते हुए . तम्बाकू में अनेक विषैले तत्व होते हैं जिनमे सबसे प्रमुख विषैला तत्व ' निकोटिन ' नामक विष है जिसका नामकरण इसकी खोज करने वाले वैज्ञानिक "जीन निकोट" के नाम पर "निकोटिन" या "निकोटियाना" रखा गया है. तम्बाकू के सेवन से, स्नायविक संस्थान को शुरू शुरू में उत्तेजना मिलती है और ऐसा लगता है की बड़ी चुस्ती-फुर्ती पैदा हो रही है क्यूंकि हमारे शरीर में स्वाभाविक रूप से निकोटीन के ग्राही क्षेत्र (nicotinic receptors ) होते हैं लेकिन बाद में यही "निकोटिन" स्नायविक संस्थान में शिथिलता पैदा करता है. इसका उत्तेजक प्रभाव आँतों में गतिशीलता पैदा कर देता है जिससे दस्त जल्दी और खुलासा हो जाता है परन्तु धीरे धीरे निकोटिन के असर से आंतें शिथिल हो जाती हैं और फिर कब्ज़ रहने लगता है लिहाजा तम्बाकू के सेवन की जरुरत बार बार पड़ने लगती है. तम्बाकू के गुटके के रूप में सेवन करने से निकोटिन मुंह की श्लेष्मिक कला से अवशोषित (sublingual absorption )होकर रक्त द्वारा पूरे शरीर में फैलता है तो धूम्रपान में सीधे फेफड़ों से रक्त में मिलकर पूरे शरीर को प्रभावित करता है. तम्बाकू में निकोटिन के अलावा भी कई अन्य विषाक्त द्रव्य होते हैं जो शरीर पर दुष्प्रभाव डालते हैं फिर सिगरेट पीने में कागज़ के जलने से utpann hone वाले अन्य विषाक्त द्रव्य इसे और जहरीला बनाते हैं .

इन विषों से युक्त तम्बाकू का सेवन करने से हमारे शरीर और स्वास्थ्य पर दीर्घकाल में जो प्रभाव पड़ता है उससे कई प्रकार की बीमारियां पैदा हो सकती हैं. इन बिमारियों में मुख, गले, अन्न नलिका, फेफड़े, आमाशय या आँतों में कहीं भी कैंसर होने की सम्भावना पैदा हो जाती है. भारत में मुंह के कैंसर के रोगी ज्यादा पाए जाते हैं क्यूंकि एक तो तम्बाकू को चबाकर खाने का रिवाज़ हमारे यहाँ अधिक है और दूसरा पान मसाला युक्त तम्बाकू के गुटकों के पाउच का चलन हमारे यहाँ हर उम्र और हर वर्ग में बहुत बढ़ गया है. इसके अलावा कालांतर में स्नायविक दौर्बल्य, नेत्रों की ज्योति कम होना, यौन शक्ति व् प्रजनन शक्ति में कमी होना, उच्च रक्तचाप ह्रदय रोग, श्वास कष्ट, अम्लपित्त, स्मरण शक्ति में कमी, कब्ज़ होना आदि तम्बाकू के लम्बे समय तक सेवन करने के दूरगामी लेकिन निश्चित परिणाम हैं.

तम्बाकू सेवन की आदत आमतौर पर किशोर या नवयुवा अवस्था से ही शुरू होती है और धीरे धीरे अन्य नशीले पदार्थों की तरह इसकी आदत भी ऐसी मजबूत हो जाती है की इसे छोड़ना मुश्किल हो जाता है और इसके बिना रहा नहीं जाता . अब जहाँ तक व्यसन यानी तम्बाकू की लत का सवाल है तो व्यसन कोई सा भी हो बड़ी मुश्किल से ही छूटता है क्यूंकि जो इसे पकडे हुए है उसी से हम इसे छोड़ने की अपेक्षा करते हैं. गोया चोर से ही आशा करते हैं की चोरी न करे. और यह चोर कौन है? जाहिर है हमारा मन. सारे व्यसन हमारे मन के ही खेल हैं, मन के ही व्यापार हैं. तो जब तक हम दृढ संकल्प करके कोई आदत छोड़ने की धारणा नहीं बनाते तब तक उसे छोड़ने के सारे प्रयत्न विफल हो जाते हैं.
शरीर स्वस्थ है तो सब कुछ है और शरीर स्वस्थ नहीं तो कुछ भी नहीं, अतः बीड़ी, सिगरेट, गुटका आदि जिस भी रूप में आपको तम्बाकू की लत है उसे शीघ्रातिशीघ्र त्यागना ही बेहतर है और वो भी मज़बूत इच्छाशक्ति और दृढ़संकल्प के साथ. तम्बाकू का व्यसन छोड़ने पर निम्नलिखित व्याधियां कुछ दिनों तक परेशान कर सकती हैं पर यदि हम अपना संकल्प न टूटने दें और योग, प्राणायाम तथा प्राकृतिक उपचार को अमल में लाएं तो कुछ दिनों में इस बुरी आदत से हमेशा के लिए निजात मिल सकती है.

(१) तलब - तम्बाकू के उत्पादों का नशा त्यागते ही दिन में कई बार नशे के लिए पैदा हुई तलब परेशान करती है. इस तलब को मिटाने के लिए भूल कर भी मुंह में, इस नशे के एवज में, चुइंगम, टॉफ़ी, सादी सुपारी, सादा पान मसाला या अन्य कोई वस्तु न डालें. इससे मुंह में डालने की आदत छूटती है तथा धीरे धीरे तलब हमेशा के लिए समाप्त हो जाती है.
(२) मानसिक तनाव व् चिड़चिड़ापन.
(३) विचारों तथा मनोस्थिति पर काबू रखने की क्षमता में कमी का एहसास.
(४) मानसिक कार्यक्षमता में कमी.
(५) स्मरणशक्ति में कमी का एहसास.
(६) नकारात्मक विचार आना.
(७) नींद आने में दिक्कत.
(९) पेट ठीक से साफ़ न होना.

योग एवं प्राकृतिक उपचार की निम्नलिखित विधियों से तम्बाकू की लत से छुटकारा पाने के दृढ संकल्प को बनाये रखने तथा व्यसन को छोड़ने पर उत्पन्न होने वाले लक्षणों को दूर करने में मदद मिलती है.

भ्रमण प्राणायाम :- सूर्योदय से पहले खुले साफ़ वातावरण में, कच्ची मिटटी पर नंगे पाँव तेज़ कदमो से टहलते हुए एक से आठ कदमो तक दोनों नासिकाओं से गहरा श्वास अंदर भरें तथा एक से सोलह कदमो तक धीरे धीरे श्वास को बाहर निकाल दें. ऐसा कम से कम ५-१० बार करें.
इस प्राणायाम से रक्त की शुद्धि होती है तथा ह्रदय व् मांसपेशियों को शक्ति मिलती है. मन प्रसन्न रहता है, नकारात्मक विचार दूर होते हैं तथा अपने संकल्प पर दृढ रहने का बल प्राप्त होता है. नेत्रज्योति बढ़ती है तथा उच्च रक्तचाप के रोगी को आश्चर्यजनक लाभ मिलता है.

नाड़ी शोधन (अनुलोम-विलोम ) प्राणायाम :- प्रातः काल शुद्ध वातावरण में सुखासन में बैठ कर दाएं हाथ के अंगूठे से दायीं नासिका को बंद करके बायीं नासिका से श्वास अंदर भरें (पूरक). श्वास पूरी भर जाने पर मध्यमा और अनामिका से बायीं नासिका को बंद कर श्वास को होनी क्षमतानुसार अंदर रोक कर रखें (अभ्यांतर कुम्भक). फिर दाएं अंगूठे को हटाकर श्वास को दायीं नाशिका से बाहर निकालें (रेचक). दायीं नासिका को पुनः अंघूठे से बंद कर कुछ क्षण श्वास को बाहर ही रोक दें (बाह्य कुम्भक) . इसके बाद दाएं अंगूठे को हटाकर दायीं नासिका से श्वास अंदर भरें और पहले की तरह श्वास को क्षमतानुसार अंदर रोक कर अभ्यांतर कुम्भक करें. फिर बायीं नासिका से धीरे धीरे श्वास को बाहर निकाल दें. यह नाड़ी शोधन प्राणायाम की एक आवृत्ति हुई. ऐसी ५-१० आवृत्ति करें.
अनुलोम विलोम भी ऐसा ही प्राणायाम है सिर्फ उसमे आंतरिक और बाह्य कुम्भक नहीं पाए जाते हैं.

कपालभाति - पीठ और गर्दन सीधी रखते हुए माध्यम गति से सांस को बाहर फेंके और अपने आप अंदर आने दें. इसमें पेट अंदर की तरफ अपने आप खींचता है जैसे उलटी करते वक़्त खींचता है. ५० बार लगातार करने के बाद एक मिनट सामान्य सांस लें और फिर इसे दोहराएं. ऐसी ५०-५० की आवृत्ति १० बार करें. इसके अभ्यास से शरीर में व्याप्त विषाक्त द्रव्य बाहर निकलने लगते हैं. तम्बाकू की आदत से शिथिल हो चुकी आँतों को बल मिलता है जिससे कब्ज़ की शिकायत दूर होती है. नशे की तलब मिटती है और सकारात्मक विचार आते हैं.

ध्यान - मन का भटकाव, नशे की तलब व् मानसिक अशांति होने पर १५ मिनट शवासन करने के बाद सुखासन में बैठकर ५ मिनट तक नासिका के अग्रभाग पर ध्यान केंद्रित करने से ये तकलीफें धीरे धीरे कम होती जाती हैं. इसी तरह सोते समय भी बिस्तर पर बैठ कर ५ बार भ्रामरी प्राणायाम (रीढ़ की हड्डी व् गर्दन सीधी रखते हुए कान, मुंह व् आँख को बंद रखते हुए ॐ का भँवरे की तरह गुंजन करना ) और ५ बार ॐ का उच्चारण करके लेट जाएँ और आँखें बंद करके ५-१० मिनट तक नासिका के अग्रभाग पर एकाग्रता साधते हुए श्वास को आता जाता हुआ महसूस करें.
योगासन - तम्बाकू की लत से छुटकारा दिलाने में जो योगासन उपयोगी सिद्ध होते हैं, उनमे से प्रमुख हैं - (१) पवन मुक्तासन (२) गव्यात्मक पश्चिमोत्तासन (३) धनुरासन (४) पृष्ठभूमि ताड़ासन (५) शवासन (६) सूर्य नमस्कार . इन सभी आसनों का सचित्र वर्णन आप इस लिंक पर प्राप्त कर सकते हैं --> http://www.biovatica.com/ayurveda_yoga.htm

तम्बाकू की आदत छोड़ने के लिए प्राकृतिक चिकित्सा

तम्बाकू की लत से पीछा छुड़ाने तथा तम्बाकू छोड़ने से उत्पन्न होने वाली समस्याओं से निजात दिलाने में प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति में कुछ उपाय बहुत मददगार होते हैं. चूँकि इन सभी उपायों का हम बिओवाटिका.कॉम में लिखे दूसरे आर्टिकल्स में विवरण प्रस्तुत करते आये हैं अतः यहाँ हम केवल उन विधियों के नाम प्रस्तुत कर रहे हैं ताकि हमारे रेगुलर रीडर्स को रीपेटेशन न लगे. इन उपायों के नाम हैं - (१) जल नेति (२) कुंजल (३) पेडू पर मिटटी की पट्टी (४) पैरों का गरम स्नान .

आहार :- तम्बाकू के उत्पादों (बीड़ी, सिगरेट, गुटखा आदि ) का नशा त्यागने के प्रथम तीन दिन तक दिन में एक बार प्रातः एक निम्बू+ दो चम्मच शहद + एक गिलास गुनगुना पानी लें तथा इसके बाद प्रत्येक में लगभग दो-दो घंटे का अंतराल रखते हुए मौसमानुसार कच्ची संजी जैसे - गाजर, खीरा, लौकी, पालक, सफ़ेद पेठे का रस या सूप, मौसमी फल या फलों का रस, पानी में भिगोये हुए १५-२० किशमिश, ५ मुनक्का सुविधानुसार ले. ज्यादा भूख लगने पर सुविधानुसार ताज़ा सूप व् फलों का सेवन करें (कड़वी लौकी, खीरा का सेवन न करें). इस तीन दिन के प्रयोग से पाचन क्रिया ठीक होती है.

इसके बाद लगभग दस दिन तक शौचादि से निवृत होकर प्रातःकाल मौसम के ताज़े फल या सब्ज़ी का रस लें इसके उपरान्त जब खुलकर भूख लगे तब चोकर युक्त चपाती, सब्ज़ी, सलाद, दही, रायता वगैरह लें (भोजन दिन में सिर्फ एक बार ही लेना है ). सांयकाल में फलों का रस, सब्ज़ी का सूप, दूध आदि से भूख शांत करें.

इन दस दिनों के बाद से प्रतिदिन प्रातःकाल मौसम के अनुसार फलों या सब्ज़ी का रस; १ घंटे बाद रात के भीगे हुए ५ मुनक्का, २० किशमिश, ५ बादाम चबा चबा कर खाएं. दोपहर में जब खुलकर भूख लगे तब भोजन करें जिसमे अंकुरित आहार, चोकर युक्त चपाती, दाल-चावल, सब्ज़ी, दही, रायता, सलाद आदि का सेवन करें. दोपहर बाद पका हुआ पपीता या कोई मौसमी फल ले. सायंकाल जब खुलकर भूख लगे तब चपाती, छिलका सहित मुंग की दाल का सेवन करें. सप्ताह में एक दिन फलाहार करें. तले-भुने, डिब्बा-बंद खाना, तीखे मिर्च मसालेदार पदार्थ न खाएं.

प्राणायाम , योग एवं प्राकृतिक उपायों को करने के साथ उपरोक्त आहारीय उपक्रम अपनाने से तम्बाकू की लत से छुटकारा पाने में बहुत मदद मिलती है.

 

Disease List