Welcome to Biovatica.Com

All About Ayurveda, Ayurveda Herbs and Indian Ayurveda Home Remedies

Welcome to Biovatica.Com

All About Ayurveda, Ayurveda Herbs and Indian Ayurveda Home Remedies

img

षडबिन्दु तेल (shadbindu oil )

षडबिन्दु तेल (shadbindu oil )
षडबिन्दु तेल (shadbindu oil )

नस्य के रूप में प्रयोग किये जाने वाले एक गुणकारी आयुर्वेदिक योग "षडबिन्दु तेल" का परिचय इस आर्टिकल में प्रस्तुत किया जा रहा है जिसका उपयोग कुछ व्याधियों को नष्ट कर शरीर व् स्वास्थ्य की रक्षा करने में बहुत गुणकारी सिद्ध होता है.

षडबिन्दु तेल के घटक द्रव्य (ingredients of shadbindu oil ) - अरंडी की जड़, तगर , सोया, जीवन्ति (डोडी ), रास्ना, सेंधानमक, भांगरा, बायबिडंग, मुलहठी और सौंठ - सब द्रव्य समान मात्रा में . भांगरे का रस , काले तिल का तेल और इसके बराबर वज़न में बकरी का दूध.

षडबिन्दु तेल निर्माण विधि (shadbindu oil preparation method ) - सब द्रव्यों को भांगरे के रस में पीस कर कल्क (लुगदी) बना लें. इस कल्क के वज़न से चार गुना काले तिल का तेल, इतनी ही मात्रा में बकरी का दूध और तेल से चार गुनी मात्रा में भांगरे का रस - इन सबको मिलाकर यथा विधि तेल को सिद्ध करें यानी तब तक उबालें जब सिर्फ तेल ही बचे. तेल सिद्ध करके उतार लें और ठंडा होने पर छान कर बोतलों में भर लें.

षडबिन्दु तेल मात्रा और प्रयोग विधि ( shadbindu oil quantity , dosage and application uses ) - इस तेल का उपयोग नाक में २-२ बून्द टपका कर नस्य के रूप में किया जाता है. इसकी प्रयोग विधि इस प्रकार है - पलंग पर चित्त लेटकर गर्दन पलंग से बाहर की तरफ रखकर लटका दें ताकि नाक सीधी छत की तरफ हो जाए. अब ड्रॉपर में षडबिन्दु तेल भरकर नाक के एक नासापुट में २-३ बून्द कोई भी व्यक्ति टपका दे. जैसे ही तेल की बून्द नाक में गिरे वैसे ही दूसरी तरफ का नासापुट अँगुलियों से दबा कर, २-३ बार, जोर से सांस खींचे ताकि तेल कंठ में न जाकर ऊपर की तरफ निकल जाए. इसी प्रकार दूसरी तरफ के नासापुट में २-३ बूंदें टपका कर दूसरे नासापुट को दबा कर, २-३ बार , जोर से सांस खींचें . इसके बाद २-३ मिनिट तक इसी स्थिति में लेटे रहें फिर उठ जाएँ. यह प्रयोग रात को सोते समय करें.

षडबिन्दु तेल के लाभ व् फायदे (Advantages and health benefits of shadbindu oil ) - षडबिन्दु तेल से नस्य लेने के कई फायदे हैं. इससे सर व् मस्तिष्क में तरावट होती है, खुश्की व् गर्मी दूर होती है. सर में भारीपन, सिरदर्द, बाल झड़ना व् सफ़ेद होना, सर्दी-जुकाम, नाक के अंदर सूजन होना आदि शिकायतें दूर होती हैं और शिरोरोग नष्ट होते हैं. यह तेल बिना किसी रोग के, स्वस्थ अवस्था में भी, सप्ताह में या मास में एक बार दोनों तरफ के नासापुटों (नथुनों ) में टपकाते रहने से ये शिकायतें पैदा ही नहीं होती. षडबिन्दु तेल बना बनाया इसी नाम से बाज़ार में मिलता है.

 

Disease List